Feeds:
पोस्ट
टिप्पणियाँ

Archive for the ‘खबर पे अपनी राय’ Category

 

लोकपाल बिल
आज संपूर्ण भारत मे एक लहर सी उठी है…. आवाज़ है ये आवाम की घुश्खोरी और भ्रस्टाचार के खिलाफ| स्वयं सेवक श्री अन्ना हजारे ने दिखा दिया है आज के युग मे भी गांधीवाद कितना प्रासंगिक है | भारतीय सरकार जो आजादी के ४३ वर्षा बाद भी लोकपाल बिल नहीं पास कर सकी, आज श्री अन्ना हजारे के सामने बेबस नज़र आती है | आज श्री हजारे जी  आमरण अनशन का तीसरा दिन है |  लोकपाल बिल की बुनियादी संरचना केवल एक दिखावा मात्र लगती है जब तक की उसमे कोई ठोस कदम उठाने की क्षमता न हो| इसी संधर्व मे “जन लोकपाल बिल” काफी कारगर साबित होगी | आज का दिन काफी अहम् है|
वैसे मुझे सबसे ज्यादा आश्चर्यचकित करने की बात यह लगी जब मैंने पढ़ा पूर्व सांसद और स्वर्गीय श्री अजित सरकार की हत्या के आरोप मे  तत्काल पटना के बेउर जेल मे आजीवन कारावास की सज़ा काट रहे पप्पू यादव ने श्री हजारे के समर्थन मे उपवास की | है न आश्चर्य की बात! हिंदी मे एक कहावत है “सौ चूहे खा कर बिल्ली हज को चली” कुछ ऐसा ही हाल श्री यादव का लगता है| उन्हें ज्ञात होना चाहिए जन लोकपाल बिल इन जैसे भ्रष्ट और समाज के कोढ़ बन चुके  राजा, कलमाड़ी जैसे लोगों का सफाया करने की एक सफल कोशिश है|
राजनीती की यह दशा और आम जनता की अल्पकालिक स्मृति का ही कारन है की कलमाड़ी यादव राजा जैसे लोग अब भी ऐश कर रहे हैं|

 

देश को नाज़ है श्री हजारे जैसे गांधीवादियों पे जो कलियुग मे भी अपने लिए नहीं देश के लिए, देश की आमजनता के लिए सर्वश्व कुर्बान करने की इच्छा रखते हैं

जय हिंद

नोट: लोकपाल बिल के बारे मे विस्तार से जानने के लिए यहाँ दबाएँ

Advertisements

Read Full Post »

बड़ी दुविधा भाई … आखिर लिखूं तो क्या लिखूं? सोचा कल की खबर पे अपनी राय दूँ | वैसे, सभी अखबार और TV चैनल ने इसे आम जनता तक तो पहुंचा ही दिया है |

कल हमारे क्षेत्र के MLA की हत्या कर दी गयी| मामला बदला व्यक्तिगत था या राजनीति से प्रेरित ये कहना अभी उचित नहीं होगा| कुछ ही महीने पहले आरोपी महिला ने MLA पे बलात्कार का पोलिसे रिपोर्ट दायर की थी| हालाँकि इलेक्शन से ठीक पहले की बात थी, किसी कारनवश महिला द्वारा रिपोर्ट वापस ले ली गयी थी | कल की सुबह जब आम जनता सदस्य से मिलने पहुंचे तो मौका मिलते ही महिला ने छुरा भोक कर श्री केसरी को गंभीर रूप से घायल कर दिया| हॉस्पिटल ले जाते वक़्त उनकी मृत्यु हो गई| आवेश्वश लोगों ने तो महिला को आड़े हाते लिया पर क़ानून अपने हाथों मे लेना ठीक नहीं लगता| महिला भी हॉस्पिटल मे है और अभी बेहतर स्तिथी मे है| उसके ठीक हो जाने पे असली मकसद से पर्दा फाश होगा |

Read Full Post »

%d bloggers like this: